फेसबुक से माल पटाकर मैंने उसकी चूत पी और कसके बुर चोदी - XXX STARLINK

Thursday, October 4, 2018

फेसबुक से माल पटाकर मैंने उसकी चूत पी और कसके बुर चोदी

.. ..

हाय दोस्तों, मैं राजा आहूजा है। मैं नागपुर का रहने वाला हूँ। मैं नॉन वेज स्टोरी का बहुत बड़ा प्रशंसक हूँ। हर दिन मैं यही की सेक्सी और रसीली कहानियाँ पढकर मजे उठाता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सुनाना चाहता हूँ। ये बात 2011 की है। उन दिनों मुझे फेसबुक के बारे में नया नया पता चला था। मैंने फेसबुक पर अपना अकाउंट बना लिया और करने लगा। दोस्तों, मेरा असली मकसद किसी मस्त माल को पटाना था और चोदना था। इसलिए मैं आये दिन लड़कियों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने लगा।


कुछ दिनों बाद मेरी दोस्ती काजल से हो गयी। वो बहुत मस्त माल लड़की थी और नागपुर की ही रहने वाली थी। वो 21 साल की फ्रेश माल थी। उसके फेसबुक पर उसकी फोटो लगी हुई थी। वो कुवारी और अनचुदी लग रही थी। वो रोज नई नई फोटो लगाती थी और बहुत सेक्सी लगती थी। मैंने उसे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी। उसने एक्सेप्ट कर ली। धीरे धीरे मेरी उससे बात होने लगी। कुछ दिनों बाद हम अच्छे दोस्त बन गए और सेक्स चैट करने लगे।


“काजल! तुम्हारे मम्मे तो खूब बड़े बड़े और बेहद रसीले है” मैंने लिखा


“हाँ, मैं अपने मस्त मस्त मम्मो का बड़ा केयर करती हूँ। रोज सुबह साबुन से मल मलकर नहाती हूँ, फिर बोडी लोशन से मम्मो की मालिश करती हूँ” काजल बोली


दोस्तों ये जानकर मैं बहुत खुश हुआ।


“जान….तुम्हारे दूध बहुत बड़े है पर इस फोटो में हल्के हल्के ही दिखते है, कभी और जादा दिखाओ” मैंने लिखा


उसके बाद अगले दिन काजल ने अपने फेसबुक के पेज पर एक मिनी टी शर्ट पहन कर फोटो लगाई। उसमे उसके दूध और जादा दिख रहे थे। मैंने उसकी वो दूधवाली फोटो देखकर कई बार मुठ मार ली। इस तरह हम लोग रोज शाम को सेक्स चैट करने लगे।


“जान…..तुमको कपड़ों में बहुत देख लिया….आज अपनी उपर वाली नंगी फोटो भेज दो” मैंने काजल से कहा


उसने ब्रा में फोटो भेज दी। दोस्तों, मजा आ गया वो फोटो देखकर। 34 इंच के बड़े बड़े दूध देख देखकर मेरी जान निकली जा रही थी।


“काजल, मेरी जान….प्लीस ब्रा भी हटा दो ना”  मैंने उससे रिक्वेस्ट की


उस दिन वो अच्छे मूड में थी। उसने कुछ देर तक कोई रिप्लाई नही किया, फिर उसके मन में ना जाने क्या आया, उसने अपनी ब्रा भी निकाल दी और फोटो मुझे मेसेज कर दी। दोस्तों, काजल एक घरेलू लड़की थी, कोई रंडी तो थी नही की होम पेज पर वो नंगी मम्मो वाली फोटो डाल देती। इसलिए उसने मुझे मेसेंजर में वो नंगी फोटो भेज दी। दोस्तों मैंने कोई आधे घंटे तक काजल जैसी मस्त माल की नंगी फोटो के जी भरकर दर्शन किये और कई बार मुठ मार दी। मेरा वो दिन बहुत खुशनुमा बिता था क्यूंकि मेरे पास मेरी माल की नंगी बिना कपड़ों के फोटो थी। ऊसके २ कसे दूध बहुत मस्त और सुंदर थे। दोनों छातियाँ नई नई और रसीली प्रतीत हो रही थी।


जी कर रहा था की बस अभी मेरी गर्लफ्रेंड काजल मेरे पास, मेरी बाहों में आ गये और मैं हाथ से उसके दूध दबा लूँ और जी भरकर पी लूँ। दोस्तों, मेरा यही दिल कर रहा था। मैंने अपने दोस्तों को जलाने के लिए वो फोटो सबको वाट्सअप कर दी। उसके बाद तो मेरे सारे दोस्त मुझे जलने लगे।


“बहनचोद! माँ कसम…..क्या माल पटाया है यार…..लंड खड़ा हो गया इस माल को देखकर यार। कहा रहती है ये…..???!!” मेरे दोस्त रवि से मुझे जवाब लिखा


“अच्छा गांडू, अपने दोस्त को भूल गया। याद नही मैंने तुझे कितनी लडकियाँ चुदवाई है….भूल गया मेरे सारे अहसान ???” मेरे दोस्त गौरव ने कहा


“ओय राजा, यार हमे में इस लौंडिया की रसीली चूत दिला दे यार” मेरा दोस्त वैभव बोला


दोस्तों, इस तरह मैंने अपने सारे दोस्तों को काजल की नंगी फोटो दिखाकर खूब जला जलाकर मार डाला। धीरे धीरे अब मेरा काजल को चोदने का मन करने लगा था। पर दिक्कत थी की वो मेरी माल और गर्लफ्रेंड थी, कैसे उससे खुलकर चूत मांग लेता। एक दिन उसने मुझसे मेरे लौड़े की फोटो भेजने को कहा। मैंने तुरंत भेज दिया। अपने 7” के लौड़े को मैंने तेल लगाकर अच्छी तरह मालिश करवा दी, फिर एक प्यारी सी फोटो मैंने काजल को भेज दी।


‘ओं माँ…..तुम्हारा लौड़ा कितना बड़ा है??” काजल बोली


“शेर जैसे मर्द का लौड़ा है……कोई नामर्द का थोड़े ही नही है जो छोटा सा होगा” मैंने कहा


“राजा…..मेरा तुम्हारा रसीला हॉट डॉग जैसा लौड़ा चूसने का दिल कर रहा है” काजल बोली


“चूस लो जान, मैं तो कबसे तरस रहा हूँ” मैंने कहा


दोस्तों, इस तरह मैं अपनी माल काजल से रोज हॉट सेक्स चैट करने लगा। एक दिन उसने अपनी चूत के सारे बाल साफ़ किये और नहाधोकर फ्रेश होकर फोटो मुझे भेज दी। जब मैंने वो तस्वीर देखी तो मेरे मुंह में पानी आ गया। खूब बड़ी सी किसी मीठी गुझिया की तरह भरी हुई चूत थी। गुलाबी रंग की भरी चूत देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया था। मैंने अपने फोन में ही काजल की मस्त चूत को चाटने लगा और मजा लेने लगा। उसके बाद मैंने ४ बार मुठ मारी और चूत की तस्वीर अपने दोस्तों को भेज दी।


“ओह भाई, कब ले रहा है इस रसीली चूत को!!” मेरे दोस्त पूछने लगे


इस तरह कुछ दिन निकल गये। मैंने काजल में चोद नही पा रहा था। क्यूंकि मेरे एक्साम्स चल रहे थे। इसलिए हाल फिलहाल मुझे बस सेक्स चैट से ही संतोष करना पड़ रहा था।


“काजल!!….मेरी जान, तुमको चोदने का बड़ा दिल कर रहा है” मैंने फेसबुक के मेसेंजर में लिखा


“….तो आओ चोद लो ना, मैं भी कबसे तुम्हारा इंतजार कर रही हूँ, तुम्हारे नाम पर मैं अपनी चूत में अंदर तक ऊँगली डाल लेती हूँ” काजल बोली


‘नही, मैं पहले तुम्हारी चूत पियूँगा, फिर तुमको रगड़कर चोदुंगा” मैंने कहा


दोस्तों कुछ दिन बाद मेरा एक्साम्स खत्म हो गए। मेरे घर वाले गोवा घूमने चले गए। मेरे पास काजल को चोदने का एक मस्त मौका था। मैं उसने मिल गया और फिर अपने घर ले आया। वो जितना फेसबुक में अच्छी लगती थी, उससे जादा सेक्सी और चुदासी हो असलियत में थी। उसने अपने बाल कटवा रखे थे जो आधी बाही तक थे। काजल हमेशा अपने बालों को खुला रखती थी। काले घने और रेशमी माल उसे और जादा चुदासी और सेक्सी माल बनाते थे। अगर कोई भी लड़का उसको एक बार देख लेता तो बार बार पलट पलट कर देखता और चोदने को बेताब हो जाता।


काजल बहुत गोरी और सेक्सी थी। उसका बदन कहीं से भी मोटा नही था और बहुत चिकना जिस्म था उसका। मैंने उसे बाहों में भर लिया और प्यार करने लगा।


“ओह्ह्ह्ह….जान, आज कितने दिनों बाद हम मिले। फेसबुक पर हमारी दोस्ती 6 महीने पहले हो गयी थी, पर देखा मिलने में कितना वक़्त मिल गया” काजल बोली


“सही कहा …..जान” मैंने कहा


फिर हम आपस में किस करने लगी। काजल के सेक्सी और चुदसे जिस्म की भीनी भीनी मर्दाना महक मेरी नाक में जा रही थी। एक मस्त चोदने लायक जवान लौंडिया को बाहों में भरना वाकई गजब का एक्सपीरियंस होता है। मैं बहुत जादा जोश में आ गया था और बेतहाशा मैं उसके गाल, मुंह, चेहरे और गले को चूम रहा था। इसी बिच मैंने उसे गोद में उठा लिया। बड़ी देर तक हम दोनों एक दूसरे की बाहों में चुप चाप बने रहे जैसे हम जन्मो जन्मो के प्रेमी हों। फिर मैं काजल को सोफे पर ले गया। वो बार बार मेरी तरफ गहरी नजर से एकतक देख रही थी।


“जान……तुम बैठो, मैं तुम्हारे लिए चाय बनाता हूँ” मैंने कहा। पर काजल खामोश थी और मेरी ही आँखों में देख रही थी। मैंने समझ नही पा रहा था की वो क्या कहना चाहती है।


“क्या जान???” मैंने उसके पास जाकर पूछा


“पहले मुझे चोद लो..मैं खुद को रोक नही पा रही हूँ। मेरी चूत में बहुत खुजली हो रही है” काजल बोली। उसके ये शब्द ‘पहले मुझे चोद लो….” मुझे जैसे पागल कर गये। ‘भाई लौंडिया चाय बाद में पी लेगी, पर अभी तो तुम्हारा लंड मांग रही है, इसलिए इसे इनकार मत करो और इसे पहले चोद लो’ मैंने खुद से कहा मेरी फेसबुक वाली माल काजल की बात सुनकर मैं मुस्कुरा दिया। चाय बनाने का प्लान मैंने छोड़ दिया। उनके बाद मैंने अपनी टी शर्ट और जींस निकाल दी और कच्छा भी निकाल दिया। मैंने काजल के पास सोफे पर आकर उसने चिपककर बैठ गया उसे किस करने लगा। वो सिर्फ और सिर्फ मेरी ही आँख में देख रही थी और इसका मतलब यही था की वो मुझसे चुदना चाहती थी। मैंने उसका टॉप और जींस निकाल दी। अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में बैठी थी। मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी। उसको बाहों में मैंने भर लिया और चूमने लगा और प्यार करने लगा।


“ओह्ह्ह्ह….जान, आज तुम्हारी बाहों में मुझे बहुत मजा मिल रहा है” काजल बोली मैं उसकी नंगी पीठ को अपने दोनों हाथों से सहला रहा था।


“राजा……मेरी जान….आज मुझे तुम कसकर चोदना। आज मुझे पर कोई रहम मत करना। अगर चुदवाते समय मेरी चूत में दर्द होने लगे और मैं तुमसे रुकने को कहूँ तो भी तुम मत रुकना और मुझे गम्म गम्म तड़ तड़ चोदते रहना” काजल बोली। मुझे उसकी विशेष अनुमति मिल चुकी थी। मैंने उसे सोफे पर सीधा लिटा दिया और उसपर लेट गया। अब मैं उसके भरे भरे दूध पी रहा था। मेरी माल काजल के स्तन इतने नर्म, मीठे और मुलायम थे की मैं क्या बताऊँ। मैंने मस्ती से उसके छलकते जाम पीने लगा। उसके सुंदर स्तनों को किसी लोमड़ी की तरह मैंने मुंह में दबोच लिया और चूसने और पीने लगा। दोस्तों, ऐसा लग रहा था की हम दोनों जन्नत में पहुच गए हों। फिर मैंने अपने मोबाइल का विडियो रेकॉर्डर ऑन कर दिया और सामने की टेबल पर मोबाइल इस तरह से सेट कर दिया की हम दोनों की चुदाई वाली अच्छी सी विडियो बन जाए। फिर मैंने काजल पर लेट गया और उसके दूध पीने लगा।


मैंने जीभरके अपने माल के मीठे आम चूसे और पिये। फिर मैंने उनको पलट कर लिटा दिया और उसकी नंगी चिकनी और मांसल पीठ को मैं चूमने और चूसने लगा। हाय दोस्तों, काजल की पीठ इतनी सेक्सी थी की मैं आपको कैसे बाताऊँ। रीढ़ की बीच की हड्डी में कई सेक्सी दरारे जैसी थी। काजल तो बस चोदने खाने के लिए ही बनी थी। मैंने कामुकता और चुदास में उनकी नंगी पीठ पर अपने तेज दांत गड़ा दिए और कसकर काट लिया। मुझे बहुत मजा आया उसकी नंगी पीठ को काटकर। वो तडप उठी और सिसकने लगी।


“आह….आह.ओह्ह्ह्ह. औच आउच …..सी” वो करने लगी


मैंने बेहद सेक्सी अंदाज में उनकी नंगी पीठ को अपने दांत से कुतर रहा था और धीरे धीरे नीचे की तरह बढ़ रहा था। कभी मैं उसके दोनों सेक्सी कंधे को चूम लेता था तो कभी दांत से काट लेता था। धीरे धीरे मैंने काजल की कमर पर पहुच गया। मैंने उसको पूरी तरह से नंगा नही किया था। उसने अभी भी पेंटी पहन रखी थी। मैं उसकी सेक्सी कमर को सहलाने लगा और अपने ओंठों से चूमने लगा। फिर मुझे शरारत सूझी मैंने उसके मस्त मस्त चुतड को सहलाने लगा और चूमने लगा। काजल पेट के बल लेती हुई थी। फिर मैंने उसकी पेंटी में हाथ डाल दिया और उसके रसीले पुट्ठे मैं सहलाने लगा। अब मैंने उसको पलट दिया और सीधा कर दिया।  अब वो पीठ के बल सीधी लेट गयी। मैंने अपनी सामान की पेंटी निकाल दी उसकी दोनों टाँगे खोल दी।


काजल की गोरी संगमरमर जैसी जांघो को चूमते चूमते मुझे उसकी भरी हुई चूत के दर्शन हो गये। उफ्फ्फ्फ़….खुदा से कितना सुंदर बुर बनाई है मेरी माल की, मैं सोचने लगा। मैं करीब एक घंटे से काजल के साथ प्यार कर रहा था, फोरप्ले कर रहा था, इसलिए उसकी दोनों चूचियां बड़ी कसी और तन गयी थी। कलश जैसे उसके दूध जैसे अमृत धारा बहा रहे थे। मेरा दिल एक बार फिर से काजल के कलश [उसके दूध] पर आ गया और मैंने उसपर लेट गया और उसके दूध मैं मजे लेकर पीने लगा। फिर मैं नीचे आ गया और उसकी चूत को मैं हाथ से सहलाने लगा। आखिर में मैंने अपने अधर [ओंठ] अपनी मॉल काजल के भोसड़े पर रख दिए और मजे से बुर पीने लगा। आह्ह्हह्ह…कितनी मस्त भरी हुई बुर थी मेरी माल की। कितनी मस्त मस्त लाल लाल फांक थी। चूत के होठ काफी बड़े बड़े थे जो और जादा सेक्सी लग रहे थे। मैंने हाथ में थोडा थूक लिया और लौड़े के सुपाडे पर लगा लिया और काजल के भोसड़े में मैंने डाल दिया। थोडा धक्का मारने पर लंड गच्च की आवाज करता हुआ काजल के भोसड़े में उतर गया। मैं छिनाल को मजे से चोदने लगा।


वो गर्म गर्म सिसकारी लेने लगी। “सी सी… सी सी सी सी… ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ…” काजल करने लगी। उसकी मीठी कराहने की आवाज मुझे दीवाना बना गयी और पागल कर गयी। मैं उसे अपनी बाँहों में भरकर घप घप चोदने लगा। मेरी कमर नाच नाचकर काजल की बुर चोदने लगी। १८ मिनट बाद वो अपनी कमर और गांड उछाल उछालकर मजे से चुदवाने लगी।


“आह आह राजा….आजजजज….मुझे कसके चोद दोदोदोदोदो…आज मेरी बुर को फाड़ फाड़कर इसका भरता बना डालो जाननननन….” काजल किसी रंडी की तरह चिल्लाने लगी। मुझे उसके ये शब्द बहुत सेक्सी लगे। मैं तेज तेज उसकी बुर पर मेहनत करने लगा और उसे पटक पटक कर चोदने लगा। वो मेरी बाहों से चिपक गयी थी और मजे से चुदवा रही थी। काजल ने मुझे अपने सीने में छुपा लिया था और दोनों हाथ मेरी पीठ में डाल दिए थे। उसने अपनी दोनों टाँगे मेरी कमर में फंसा दी थी। १ घंटे की नॉन स्टॉप रगड़ाई और चुदाई के बाद मैंने उसके फटे भोसड़े में माल छोड़ दिया। अनगिनत प्यार की फुहारे मैंने काजल के भोसड़े में छोड़ दी। मेरे माथे पर पसीने की कई बूंद उभर आई।


उधर काजल की चूत और चेहरे पर पसीने की बुँदे झिलमिलाने लगी। उसको मेरी ताबड़तोड़ चुदाई पर बड़ा प्यार आ गया और उसने मेरे माथे की बूंद को चूम लिया और पी गयी। फिर मैं सोफे पर सीधा बैठ गया। अपनी सामान काजल को मैंने अपने लंड पर बिठा लिया और उछाल उछालकर चोदा। ये कहानी आप सिर्फ और सिर्फ नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

..

No comments:

Post a Comment